अदरक एक अद्भुत है: अदरक हे अद्भुत ओषधी आहे

  
  1. RAM KASTURE

    RAM KASTURE Member

    अदरक एक अद्भुत है अदरक हे अद्भुत ओषधी आहे
    अदरक में बहुतायत विटामिन्स के साथ-साथ मैग्नीज और कॉपर भी पाए जाते हैं ये शरीर को सुचारु रूप से चलाने में बहुत महत्वपूर्ण इनकी महत्व पूर्ण भूमिका होती है. अदरक अनेक गुणों की से भरपूर है इसका उपयोग विभिन्न प्रकारों से उपयोग में किया जा सकता मसलन चाय में, सब्जी आदि में डालकर इसे शरीर में पहुचाया जा सकता है, किन्तु अदरक के पर ज्यूस का उपयोग जल्द लाभ देने वाला माना गया है. अदरक जमीन के अन्दर पैदा होता है इसीलिए इसे कंद की जाती का माना जा सकता है. इसकी तासीर गर्म होती है.
    अदरक के ज्यूस के अद्भुत गुणों का विवरण इस प्रकार है:
    .1. अदरक का ज्यूस सुजन को शीघ्र कम करता है. जोड़ो के दर्द से निजात पाने के अदरक का जूस बेहद सक्षम है. एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग अदरक के ज्यूस का नियमित सेवन पर करते हैं उन्हें जोड़ों में सूजन और दर्द पैदा करने वाली बीमारियां लाभ मिलता है. जोड़ो का दर्द नया हो या पूर्ण दोनों तरह के दर्द में यह जूस सकारात्मक असर दिखाता है. अदरक के ज्यूस में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो शरीर में ताजे रक्त के प्रवाह को सुगम बनाते हैं, अदरक में इनमें खून को साफ करने का एक विशेष गुण होता है.

    2. अदरक में कैंसर जैसी भयानक बीमारी से शरीर को बचाने का काम करता है. यह कैंसर पैदा करने वाले cell को समाप्त करता है। एक अनुसन्धान के अनुसार अदरक में स्तन केन्सर को बढ़ने से रोकता है.
    3. अदरक में खून को पतला करता है और इसी वजह से यह ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी में तुरंत लाभ देता. शरीर में रक्त संचार करता है. चोटों के घाव भी ठीक करता है

    4. सभी प्रकार के दर्द से राहत देने की इसकी क्षमता इसे बहुत ही महत्वपूर्ण बनाती है। चाहे आपके दांत के दर्द और या सिरदर्द में- अदरक का ज्यूस बहुत असर करता है। अनुसन्धान के अनुसार से यह माइग्रेन से राहत देने में भी सहायक है.

    5. पाचन संबंधी कोई भी शिकायत की समस्या में यह रामबाण है, या यह मान कर चलना चाहिए पेट कि समस्या अब और अधिक परेशान नहीं कर सकेगी. अदरक का ज्यूस आपके पेट में पड़े हुए खाने को निकास द्वार की तरफ धकेलता है. अदरक का यह चमत्कारी गुण आपको न केवल पाचन और गैस और सभी तरह के पेट दर्द से भी आराम दिलाता है.

    6. अदरक के ज्यूस में गठिया रोग को भी ठीक करने की क्षमता होती है. इसके सूजन को खत्म करने वाले गुण गठिया और थायराईड से ग्रस्त मरीजों के लिए अत्यधिक लाभदायक हैं.

    7. अदरक के ज्यूस के नियमित इस्तेमाल से कोलेस्ट्रॉल को हमेशा कम बनाए रखा जा सकता हैं. इसके सेवन से रक्त के थक्कों नहीं जमने देता और खून के सचर बिना किसी बाधा के करता और इसीकारण हृदयाघात की आशंका से बचाए रखता है, ब्लड प्रेशर को सामान्य रखता है.

    8. अदरक को सर्दी से बचाने में सबसे अधिक कारगर माना जाता है इसीलिए ठण्ड के दिनों में चाय में अदरक का उपयोग हर चाय बेचने वाला करता है. यह सर्दी पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने के साथ-साथ सर्दी फिर से परेशान न कर पाए, यह भी गुण अदरक में है।

    9. यदि किसी के बाल असमय सफ़ेद हो गये तब ऐसी स्थिति में अदरक के रस को सर पर लगाया भी जा सकता है किन्तु इस रस में पानी की मात्रा बिलकुल भी नहीं होना चाहिए. इसे पिया भी जा सकता है. इस प्रयोग से काले हुए बाल फिर सफ़ेद नहीं होते. बुढ़ापे के सफ़ेद बालो को काला करना संभव नहीं. कुछ देर बाद इस साफ़ पानी से धो लेना चाहिए. आज कल की जो ओषधिया है उसमे रसायन ज्यादा होने के कारण उसका हमेशा उपयोग खतरनाक है. इन केमिकल युक्त डाई से बचना चाहिए.

    10. अगर आपको त्वचा से जुड़ी हुई किसी भी किस्म की समस्या है तो आप अदरक के ज्यूस को नियमित तौर पर इस्तेमाल करना शुरू कर दीजिए. अदरक के ज्यूस से आप मुहांसों से हमेशा के लिए निजात पा सकते हैं।
    आज हर रोग के लिए अलोपेथी में अनेक दवाए है किन्तु इसके साईड इफेक्ट से इन्कार नहीं किया जा सकता. एन्टी बायोटिक लेने से एसिडिटी और मुह का स्वाद ख़राब हो जाता है. इसके कारण रोगी खाना 2-3 दिन बाद ठीक तरह से खा सकता है. इसीकारण अनेक लोग आजकल पृकृति द्वारा दी गयी वस्तुओ का सेवन कर रहे है. बाबा रामदेव भी यही कार्य कर रहे है. आयुर्वेद की और व्यक्तियों का झुकाव भी इसी कारण से है. अदरक के रस से कोई साईड इफेक्ट नहीं है इसकारण इसका सेवन सुरक्षित माना गया है. अदरक या लहसुन दोनों ही अनेक रोगों से मुक्त होने के लिए सक्षम है. दादी माँ के नुस्के भी अनेक लोग आजमाते है.
    अदरक का प्रयोग बेहद आसान, सस्ता और लाभों से भरपूर है। रोग नया हो या बहुत पुराना अदरक का रस ठीक कर ही दम लेता है. यह अनेक गुनो से युक्त होने के कारण यह व्यक्ति को स्वस्थ रख सकता है. यदि इसका सेवन करना चाहते है तब किसी आयुर्वेद डाक्टर का परामर्श लेने से कम समय में अधिक लाभ प्राप्त हो सकता, रस की कितनी मात्रा कितनी बार लेना यह परामर्श से ही पता लगेगा. ये डाक्टर रोगों के उपचार में अदरक के रस के साथ और वस्तु लेने की सलाह डे सकते है जो किसी रोगी को जल्द ठीक करेगा. गरीब लोग भी इसका सेवन कर सकते है. हमेशा चिकित्सक के परामर्श से अदरक के रस का प्रयोग लाभदायक ही होगा.
    अदरक च्या रसा चे गुण:
    1. अदरक चा रस सूजन कमी करते, वेदना पासून मुक्त करते. अदरक च्या रसा चे रोज सेवन करण्याने संधिवात पण ठीक होतो.
    2. अदरक केन्सर च्या रोगा करिता पण फायदेमंद आहे. ह्या मधे केन्सर चे सेल नष्ट करण्या ची ताकत आहे.
    3. अदरक रक्ता ला पतले करते आणि रक्ता चे थक्के जमू देत नाही या कारणानी हार्ट अटेक ची संभावना क्षीण होते. रक्त संचार बे बाधा शरीरा मधे होते
    4. प्रत्येक प्रकार ची वेदना ह्यांचा रस नी ठीक होतो. डोके दुखने, पाय दुखने आणि प्रत्येक प्रकार चे दुखने हे रस दूर करते.
    5. अद्र्रक चा रस पाचन तंत्र ला मजबूत करतो, ह्या रसा चा सेवन केल्यास पोटा चे सर्व विकार दूर होतात. बध्दकोष्ट च्या रोग्यानी ह्या रसा चे उपयोग केल्यास त्याना एकदम फायदा जाणवेल
    6. जोड़ा चे दुखने अदरक चा रस कमी करतो.
    7. हे रस कोलेस्ट्रार ला नियंत्रित ठेवतो ह्या गुणानि हार्ट अटेक ची भीती नाहीसे होते.
    8. अदरक चा रस सर्दी मधे फायदा देतो. ठंडी मधे प्रत्येक चाह वाला अदरक चा वापर या करीता करतो. जास्त सर्दी झाल्यास ह्याचा रस घेतल्यास फायदा होतो.
    9. पांढरे केसाना काळे करण्या करिता ह्याचा रस डोक्या वर लावला जातो, किंवा काही लोंक याला पितात. हे रस अवेळी पांढरे झालेले केसा ला च काळे करतो. वयानुसार पांढरे झालेले केस ह्या विधि ने काळे होने संभव नाही.
    10.त्वचा च्या रोगा वर हे रसचांगले काम करते, काळेदाग पण फीके पडतात.
    वरील प्रमाणे अदरक हा सर्वगुण संपन्न वनस्पति आहे. अदरक चे रस निरोगी मानुस सुध्दा घेवु शकतो. रोगी मानुस ह्याचा उपयोग करूण स्वस्थ राहू शकतो, ह्याचा उपयोग साधा आणि सस्ता आहे. सेवन करण्या आधी आयुर्वेद च्या डाक्टर चे परामर्श घेणे योग्य आहे किती प्रमाणात व् किती वेळ घ्यायला पाहिजे ते रोग पाहून सांगू शकते. अलोपेथी च्या ओषध मधे साइड इफेक्ट बरेच आहे, एन्टीबायोटिक घेतल्यास तोंडाचा स्वाद बिगडतो आणि पोट पण साफ होत नाही, एसिडिटी ची तक्रार वेगळी आहे, ह्याचा त्रास सहन करण्या एवजी हे रस घेणे योग्य आहे. अदरक हे अद्भुत वनस्पति आहे ह्या कारनाणी अनेक लोंक ह्या वस्तु च्या उपयोग्या कड़े वळले. पंतजली हेच काम करित आहे.
     
Draft saved Draft deleted

Share This Page